Top Ad 728x90

Wednesday, 28 November 2018

,

दिल्ली उच्च न्यायालय ने 1984 के सिख दंगों के मामले में 88 लोगों को दोषी ठहराने के फैसले को बरकरार रखा

दिल्ली उच्च न्यायालय ने 1984 के सिख दंगों के मामले में 88 लोगों को दोषी ठहराने के फैसले को बरकरार रखा




1984 के सिख दंगों के मामले में दिल्ली उच्च न्यायालय ने 88 लोगों को दोषी ठहराने के निचले अदालत के फैसले को बरकरार रखा है।

उच्च न्यायालय ने सितंबर में अपना आदेश आरक्षित किया। 1996 में निचले अदालत के फैसले के 22 साल बाद आज का फैसला आया है। न्यायमूर्ति आर के गौबा ने सभी अभियुक्तों को चार हफ्तों के भीतर आत्मसमर्पण करने का निर्देश दिया है।

अभियुक्तों ने एक सत्र अदालत के फैसले को चुनौती दी थी जिसमें 2 नवंबर, 1984 को गिरफ्तार 107 लोगों में से 88 लोगों को दंडित करने, घरों को जलाने और पूर्वी दिल्ली के एक क्षेत्र त्रिलोकपुरी में कर्फ्यू का उल्लंघन करने के आरोप में दोषी पाया था।

भारत भर में 3,000 से अधिक सिख मारे गए थे, जिसमें ज्यादातर दिल्ली से मारे गए थे।

Share this post

0 σχόλια:

Post a Comment

Top Ad 728x90